Back
Sneha's Joke
There is no such thing as global warming.

There is no such thing as global warming.
Rajinikanth was feeling cold,
so brought the sun closer to heat the earth up.

Nov,10 2014
Hansimazak Hansimazak Hansimazak Hansimazak
1ce James Bond shoots a prsn & say

1ce James Bond shoots a prsn & say
I m Bond, James Bond.
Climax-
Bt d prsn catches d bullet & throws at Bond, n’ Bond dies d prsn says-
I m Kant, Rajnikant.

Nov,10 2014
Hansimazak Hansimazak Hansimazak Hansimazak
Why do U think I SMS u?

Why do U think I SMS u?
Is it because I care? Or
I miss u ? Or I love u ? Or
I need You ? No ! It's b'coz...
I need a person for just time pass.

Nov,10 2014
Hansimazak Hansimazak Hansimazak Hansimazak
I usd 2 think that dreams don't come true,

I usd 2 think that dreams don't come true,
by this quickly changed the moment i saw you!

Nov,10 2014
Hansimazak Hansimazak Hansimazak Hansimazak
Aap ek Mobile ki tarah ho,

Aap ek Mobile ki tarah ho,
khwab mein atey ho SMS ki tarah,
Dil mein bas jatay ho Ring Tone ki tarah;
Mohabbat aapki hai Network ki tarah,
hum ko bhool na jaana Balance ki tarah.

Nov,10 2014
Hansimazak Hansimazak Hansimazak Hansimazak
LOG GHAZAL LIKHTE HAIN

LOG GHAZAL LIKHTE HAIN DUSRON KA MAAL DEKH KAR,
WAH...WAH.... WAH....WAH....
LOG GHAZAL LIKHTE HAIN DUSRON KA MAAL DEKH KAR,
AUR HUM DARD BHARE GAANE LIKHTE HAIN APNA HAAL DEKH KAR..

Nov,10 2014
Hansimazak Hansimazak Hansimazak Hansimazak
BEAUTY TIP

BEAUTY TIP:
If you want to protect your face
from dust, sunrise and other such things,
then apply Master Paints exterior emulsion
with 7 years guarantee!

Nov,10 2014
Hansimazak Hansimazak Hansimazak Hansimazak
Great lines

Maine to ek Boond se Sagar bana diya

.

.
Great lines said by - .
.
.
.

Sagar's father. ??? 

Nov,5 2014
Hansimazak Hansimazak Hansimazak Hansimazak
Baba Saxidas

Baba Saxidas Se Ek Bhakat Ne
Puchha
Bhakt: ?Baba Ji, Ye Sari Ladkiya
Darling Darling Kyu Kahti Rahti
Hai??
Baba Ji: ?Nadan Bachhe, Vo Jaan
Bhuj Ke Esa Karti Hai Aur Angreji
Word Use Karti Hai, Par Asal Mein
Hindi Mein Uska Matlab Kuch Aur
Hota Hai?
Bhakt Hairani Se: ?Achhaaa, To
Hindi Mein Matlab Kya Hota Hai??
Baba Muskurate Hue: ?Vo Kahna
Chahti Hai Ki Dal Ling?..Dal Ling? 

Nov,4 2014
Hansimazak Hansimazak Hansimazak Hansimazak
Whats the Similarity between a Mango tree & a Chickoo tree

Whats the Similarity between a Mango tree & a Chickoo tree......




Both don-t give Oranges..!!! 

Nov,4 2014
Hansimazak Hansimazak Hansimazak Hansimazak
Agar aapne IIT Bombay

Agar aapne IIT Bombay se B.Tech karne ke bad bhi FB par "Graduated" from Kendriya Vidyalaya likte h to Kasam 'C.E.O. at Jobless' Bande ki Aap Chutiye Hain

Nov,3 2014
Hansimazak Hansimazak Hansimazak Hansimazak

Nov,3 2014
Hansimazak Hansimazak Hansimazak Hansimazak
The pain is not on the time

The pain is not on the time of missing our dears.
The pain is really start when you live without them and
with their presence in your mind.
May God bless those who lost their loved ones.

Nov,3 2014
Hansimazak Hansimazak Hansimazak Hansimazak

Oct,31 2014
Hansimazak Hansimazak Hansimazak Hansimazak

Oct,31 2014
Hansimazak Hansimazak Hansimazak Hansimazak
Jab Kuch Sapne Adhure Rah Jate Hai

Jab Kuch Sapne Adhure Rah Jate Hai,
Tab Dil K Dard Ansu Banker Beh Jate Hai,
Jo Khte Hai ki Hum Sirf Apke Hai,
Pata Nhi Wo Kaise Alvida Keh Jate Hai.

Oct,30 2014
Hansimazak Hansimazak Hansimazak Hansimazak
Ab bhi sham ko chhat par batha karta hun ma

ab bhi sham ko chhat par batha karta hun ma,
aur ghanto tere bare me socha karta hun ma.
rat ko pazeb kisi pal khanak jati ha to,
tera chehara chand me dhudha karta hun ma.

Oct,30 2014
Hansimazak Hansimazak Hansimazak Hansimazak
Aanshu tere nikle to aankh meri ho

aanshu tere nikle to aankh meri ho,
dil tera dhadke to dhadkan meri ho.
hamari tumhari dosti etni gahri ho ki
sadak par tu pite aur galti meri ho.

Oct,30 2014
Hansimazak Hansimazak Hansimazak Hansimazak
Boy: I Have A Big Question

Cutest Proposal . . 
.
Boy: I Have A Big Question And
I Am Hoping You Can Give Me The Answer.
Girl: What Iz It?
Boy: You See Most Part Of Our
Body Has A Pair Right? Without
Each One Our Body Is
Unbalanced!!
Ex: Hands, Eyes, Ears, Legs, Lungs,
Kidney Etc.
Girl: So Whats The Question?
Boy: The Question Iz.. Can I Have
Your Heart To Pair With My Heart??
Coz Without You My Life Is
Unbalanced!!!

Oct,30 2014
Hansimazak Hansimazak Hansimazak Hansimazak
aapki zindgi me koi gum na ho

aapki zindgi me koi gum na ho,
aapki aankhe kabhi num na ho,
har roz mile aapko nayi girlfrnd jiski umar 80 se kam na ho.

Oct,29 2014
Hansimazak Hansimazak Hansimazak Hansimazak

Oct,28 2014
Hansimazak Hansimazak Hansimazak Hansimazak

Oct,28 2014
Hansimazak Hansimazak Hansimazak Hansimazak
Kabhi Lafz Bhool Jaaon

Kabhi Lafz Bhool Jaaon Kabi Baat Bhool Jaaon,
Tujhe Is Qadar Chahoon Apni Zaat Bhool Jaaon
Uth Kar Kabhi Tere Paas Se Chal Doon,
To Jaate Huye Khud Ko Tere Paas Bhul Jaaon.

Oct,28 2014
Hansimazak Hansimazak Hansimazak Hansimazak
Apni Har Shayari Me Tera Naam Likhte Hain

Apni Har Shayari Me Tera Naam Likhte Hain,
Apni Har Saans Pe Tera Naam Likhte Hain..
Agar Yakeen Nahi To Aazma Ke Dekh Lo,
Tere Samne Dil Khol Ke Tera Naam Likhte Hain..!

Oct,28 2014
Hansimazak Hansimazak Hansimazak Hansimazak
Kya Tareef Karun Aapki Baat Ki

Kya Tareef Karun Aapki Baat Ki,
Har Lafz Mein Jaise Khusboo Ho Gulaab Ki..
Rab Ne Diya Hai Itna Pyara Sanam,
Har Din Tamanna Rehti Hai Mulaqaat Ki..!

Oct,28 2014
Hansimazak Hansimazak Hansimazak Hansimazak

Oct,27 2014
Hansimazak Hansimazak Hansimazak Hansimazak
Sudden Lee

A chinese kid was born before the due date...

His parents named him...

Sudden Lee.... 

Oct,27 2014
Hansimazak Hansimazak Hansimazak Hansimazak
Apne desh main Male-Female ratio ko balance

Apne desh main Male-Female ratio ko balance
karne ka ek sabse achcha tareeka
.
.
jo ladke, Facebook, Twitter aur Sms
Addict par, ladkiyon ki identity bana
rahe hain....
.
.
.
God unhe permanently ladki hi bna
de XD :-D

Oct,27 2014
Hansimazak Hansimazak Hansimazak Hansimazak
Magnetic Personality

If you have a “Magnetic” personality and yet people don’t get attracted to you, it’s not your fault… They have “IRON” deficiency in their bodies.

Oct,27 2014
Hansimazak Hansimazak Hansimazak Hansimazak

Oct,21 2014
Hansimazak Hansimazak Hansimazak Hansimazak

Oct,20 2014
Hansimazak Hansimazak Hansimazak Hansimazak
Doodhwala Ne Chodi Aunty

 मैं श्रेयस आपको मेरी रियल स्टोरी बता रहा हू. मैं एकड़ूम हॅंडसम हू और मेरी हाइट 5.8′ है. और मेरी लंड का साइज़ 7′ है. अब मैं आपनी भाभी के बारे मे बताता हू.. वो एकड़ूम चिकनी है और उनकी शादी अभी अभी हुई है. उनका फिग है 36 28 36. और वो एकड़ूम सेक्सी है..

मेरे मान मे भाभी को चोदानेका कोई ख़याल नही था लेकिन ये जिन दीनो की बात है जब मे 12त पास किया था और डिग्री के अड्मिशन चालू हुई थे. भाभी मेरे घरके पास ही रहती है. उनका नाम शैला है. एक दिन मैं उनके घर चला गया उनके बाकछे को लेने, तभी मेने देखा की वो उनके बाकछे को दूध पीला रही थी. और मे जब वाहा गया तो उन्होने कुछ नही किया और वैसेही दूध पिलाने लगी और पूछा की क्या चाहिए श्रेयस?

तभी मैने कहा की मैं मुन्ना को लेने आया हू. तो भाभी बोली की ज़रा रुख़ जाओ मैं दूध पिलाने के बाद देती हू.. और भाभी ने उनका एक बूब मुन्ना के मूह मे दे दिया और मुझे वो साफ दिख रहा था उनका सफेद दूध से भरा बूब.तभी मेरा लंड खड़ा हो गया और मे बोला भाभी मैं थोड़ी देर मे आता हू तो भाभी बोली की थोड़ी देर रूखो और एसए ले जाना. और मैं रुख़ गया. मैं उनकी बूब की तरफ ही देख रहा था तभी मेरा मान हुआ की भाभी चोदानेमए बड़ा मज़ा देगी यार. और मैं भाभी को तबसे वैसेही नज़र से देखने लगा.

और उनके घर चला जाता जब वो मुन्ना को दूध पिलाती तब. भाभी को भी समाज आगेया था की मैं क्यू आता हू…एक दिन जब मैं छत पी चेर पी बैठा था तभी भाभी कपड़े सुकाने आई और मैं उनको देखा तो वो एकड़ूम सेक्सी लग रही थी और वो भीगी हुई थी उनके नहीपल साफ दिख थे तब मेरा खड़ा हो गया और केपड़ीी फटी हुई थी. तभी मुझे लगा भाभी को लंड दिखाते है और मैने आपना लंड छिपकेसे थोडा बाहर नहीकाला उस फटी पेंट मेसए. और भाभी ने मुझे डेका और बाते करने लगी तभी उन्हे मेरा लंड दिखा और वो आपना कम चोद कर मुझसे बाते करने लगी और लंड देख रही थी.. तभी मुझे नीचेसे आवाज़ आई और मैं चला गया.और एक दिन आ ही गया जब उनके पति देल्ही गये थे और उनके सास-ससुर शादी मैं गई थे..

भाभी ने मुझे बुलाया और कहा आज घरपे कोई नही है क्या तुम मुन्ना का ख़याल रखोगे? तभी मैं मान गया. और मुन्ने को खिलाने लगा. तभी मुझे ख़याल आया की भाभी के बूब्स देखते है और मैने मुन्ना को जोरसे चिमती कटी और मुन्ना रोने लगा. तभी भाभी आई और पूछा क्या हुआ तभी मैने कहा भुख लगी होगी और भाभी ने उसे वही लेकर उसे दूध पिलाने लगी.. और मे वही बैठ गया और देखने लगा.जब भाभी ने ब्लाउस के बटन खोले और सिर्फ़ एक बटन रहाँे दिया तब उनका एक बूब मुन्ना के मूह मे और दूसरेका नहीपल मुझे साफ दिखाई दे रहा था तभी मेरा लंड खड़ा हो गया और साफ दिखाई दे रहा था पेंट मे से.

भाभी ने उसे देख लिया था और उन्होने आपनी सारी घुटनो के उपर ले ली थी और उनकी लाल कलर की पँति मुझे साफ दिखाई दे रही थी. मेरा लंड मेरी पेंट फाड़नेही वाला था. और भाभी मुन्ना का लॅंड हट देख रही थी और उसे सहला रही थी.और वो सो गया. मैं समाज गया था की भाभी भी क्या चाहती है. मगर मैं डर रहा था.

भाभी बोली एसए उठाओ और मुझे कम करने दो मैं उठाने गया तो भाभी का बूब खुला ही था जब मैने मुन्ना को उठाया तब थोडा पड़ीेस किया और उसमएसए थोडा दूध मेरे हाथ को लग गया और भाभी ने तभी आ… ऐसी आवाज़ नहीकली ..और मैने मुन्ना को बेड पर रखा.तभी भाभी ने आवाज़ लगाई और कहा मुझे वो डब्बा नहीकल दो मैं बोला वो एटानी डोर है मैं कैसे नहीकालु तो वो बोली की मुझे उठाओ तो मैने उनको उठाया तो ऐसे उठाया की उनके नाभि पर हाथ फेरकार उनको उठाया तो उनकी आस मेरे लंड से टच कर रही थी और हम दोनो मज़ा ले रहे थे और जब डिब्बा नहीकाला और मैने उन्हे नीचे रखा तो उनके बूब्स मेरे हटो को टच कर रहे थे और भाभी कुछ नही बोल रही थी.

हम वैसे ही खड़े रहे और मेरा लंड उनके आस होल मे सदी के उपर से घुस चुका था भाभी ने जब उसमएसए चावल नहीकले और फिर मैने भाबिकॉ उठाया तब मेरा एक हाथ उनकी चुत को लगा तब मुझे लगा की उनकी चुत गीली हो चुकी है और भाभी गरम हो चुकी है.. मैने उनको नीचे उतरा और वो थोडा नीचे झुकी कुछ नहीकालने तब उनकी कमर मे मोच अगाइ तभी मुझे कहा की मुझे थोडा तेल लगा दो कमर मे..

मैने उन्हे बेड पी लेटया और आयिल लेने गया और आया तो देखा की भाभी लेती हुई है तभी मैं बोला भाभी आपका ब्लाउस खराब हो जाएगा..तभी भाभी ने आपना ब्लाउस नहीकल लिया अब उनके बूब्स साफ दिख रहे थे. तभी मैं मालिश करने लगा कमर की मालिश करते करते भाभी बोली थोडा उपर करो तब मैं पीठ की मालिश करने लगा और थोडा नीचे चला गया और बूब्स को टच करने लगा तभी भाभी कुछ नही बोली और जो बूब्स नीचे दबाए हुए थे वो खुले चोद दिए.

मुझसे रहा नही गया और मैं मालिश करते करते उनको दबाने लगा और भाभी कजिनकिया लेने लगी और बोली राजा मैं काबसे तुमसे चुद्वयाना चाहती थी आज मुझे तू चोद दे. और मैने उनको पूरा नंगा कर दिया.और उसने मुझे. और दूध पीने लगा और दोनो बूब्स खाली कर दिए और उसकी चुत चाटने लगा और वो मेरा लॅंड चाटने लगी और 10 मीं. बाद बोली की राजा और ना तड़पा . तब मैने आपना लंड उसकी गीली चुत मे दल दिया और झटके मरने लगा और हम दोनो 20 मीं के बाद झाड़ गये और एक दूसरएके उपर सो गये

Oct,20 2014
Hansimazak Hansimazak Hansimazak Hansimazak
I miss you baby.

Y baat jab ki h tab mai IIT entrance exam ki taiyaari kr rha tha tab ek din sham ko mera friend mere mobile m ..apni fb I’d open kra tha tabhi suddenly meri nazer ek ladki ki pic pr gayi I think WO pic uss ladki ki kisi MALL Ki thi …ussi din se bahiyo kasam se dil gya gya uss ladki ki ankhe yr I sew bhut bhut acchi lagi yr …jab maine apne friend se poocha toh …

WO ladki mere friend ki gf ki friend nikli yr mai apne friend ki gf se USS ladki ke bare me bhut poochta tha ….ek din Maine uss ladki ko friend request send kr di …or usne accept bhi kr li meri friend request …but yr jab mai online aata toh WO mughe online nahi milti or jab WO online aati toh mai online nahi Milta aise he krte krte ….ek mahine k baad WO mughe online mil gyi …….
Maine mai usko sms krta fb pr or WO mughe … akser ham dono m baat cheet hoti thi fb ….but 22 April k baad se ham dono me roz ghanto chatting hone lagi…8-9 ghante chatting hoti …..ham dono bhut bhut acche dost ban gaye the……..mai usse apni saari baate share krne laga or usko mai pyaar karne laga …..


13 may ko jaake Maine usko prapoz kr diya ….usne accept toh kr liya tha mera prapozal but uske ander mere liye feelings nahi aayi thi pyaar waali … .phir ham dono me phone pr bhi baate hone lagi . ..usne mughe hamesha call krne ko mana kiya tha bcz uski mummy …phone utha leti thi kabhi kabhi …so mughe roz uski call ka wait rahta tha ..meri jaanu aaj call kregi aaj karegi .. .phir 15-20 din uske ander bhi mere liye feelings aane lagi …… . Ham dono khub baate bhi krne lage ….mai usko bhut apni jaan se bhi jyda pyaar kerne laga …but ..phir ham dono raato me bhi phone pr fb pr baate krne lage …

I just fall totally in love. ………..mai usse abhi tak mila nahi tha .. bas uski pictures thi dair saari …bas usi ko dekha krta tha jab uski yaad aaye toh kasam se tapad jaata tha mai toh batana bhuul he gya tha ki WO Hindu or mai Muslim tha …
WO banaras city me rahti thi or mai Allahabad. Me……. mai USSe bhut pyaar krta tha ..kabhi kabhi jab usse baate nahi hoti thi toh raat me jaldi nind he nahi aati thi ….
……..mai or WO dono log ek dusre se Milne k liye bhut jyda excited the ……finally. …WO din decide kiya jab ham dono Milne waale the ….
Mere friend ki gf bhi Banaras me he rahti thi so mai or mere friend ne banaras jaane ka plan banaya …..finally ….4 augest 2014 ko Milne ka plan banaya ham logo ne …ham or mera dost or uske bhai jinka BHU Me B.music me addmission hona tha so Maine gher me Banaras jaane ka plan banaya ……
Or mai or mera dost 3 augest ko raat he ko. Mere dost ka bhai or mai sab log raat he ko train se chale….gaye banaras ham log banaras phooocha gye finally yr excitement me raat bher mughe nind he nahi aayi raat bher uske baare me sochta rha ……finally subah ho gyi mausam suhana tha mughe der lag rha tha kahi mausam kharab h paani na barasne lage ..but. ….ham logo ka milna toh confrim he tha sayad god bhi chahte the ham log jaroor mile .so 11:25a.m pr maine usko first time dekha. …

kasam se jab usko dekha toh mai dekhta he rah gya contious uski ankho me dekhta he rah gya WO mere saamne baithi thi mai uske saamne jaise he mai uski ankho me dekhta WO serma jaati …kareeb 30 minutes tak toh mai usko dekhta he rh gya ….or mere sath mera dost or uski gf bhi aayi thi …or ek uski friend bhi aayi thi ham 5 log the ek meri jaanu or mera dost or mere dost ki gf or un dono ki ek friend thi …uski friend jo thi WO close type ki thi usi ne kaha ek dusre ko dekhte he rhoge ki baate bhi karoge …usne uski chair mere bagal me laga di or meri jaanu ko mere side me baitha diya …phir dheere dheere baate start kr di .. ….
Maine uska hand hold kiya usne mera …kasam se yaaro WO din meri life ka sabse accha din tha bcz mai jisse pyaaar krta tha WO mere bagal bagal me baithi thi ….

uss time kasam se meri heartbeat bhut tez…ho gyi thi Maine dheere dheere baate start kr di ….aise he. ……usne apne hatho se khana khilaya …khane me toh kuch alag he maza tha ek baar WO ham dono ek he glass me colddrink. Or paani pee rhe the…ek baar wo mera jhootha piti ek baar mai …Maine he start kiya tha bcz Maine kahi padha tha ki ek he plate me khana khane or ek he glass me paani pine se lovers me pyaar badhta tha WO mughe babu babu krke call kr rhi thi mughe bhut bhut accha lag rha tha yr jaise mera bas chalta toh mai kabhi uss time ko aage badhne he nahi deta life time wahi uske sath rah jaata …..but yr sayad kismat ko kuch or he manjoor tha …

usko bhi. Late ho rhi thi bcz ..usne gher me bata k aaya tha ki friend ka birthday h…or waise toh ham logo ko late ho nahi rhi thi but apni jaan ke liye ager mai Allahabad pahoochne me late bhi ho jaata toh koi baat nahi thi…..mai saari problem jhelne k liye ready tha sirf or sirf apni jaan k liye….
Phir finallly jaane ka time ho gya tha ..restaurant name tha Amrapali restaurant….
finally ham sab log restaurant k bher aaye …ham logo ne auto kiya..un logo k gher ke thoda duur tak choda….last time mughe aache se yaad h jab tak auto ruki nahi Maine continuous apni princes ke ankho me dekhta rha but WO sharma ja rhi thi yr …but yr mughe bhut bhut accha lg rha tha ….

jaannat mil gyi ho jaise bcz kisi ko sacche dil se pyaar kro toh wahi sab kuch lagne lagta h. …..aub ham logo ki train ka bhi time ho gya tha ham log train se wapas a gye kareeb 3:30 pr ham log station pahoocha gye…or ham log Allahabad bhi a gye next day mere college ka first day tha …Maine apni jaanu ko pahele he bol rakha tha mughe college Jaane se pahele apni jaanu se jaroor se jaroor baat krna h usne mughe morning me call kiya Maine socha tha syad WO bhuul gyi hogi but meri princes ne meri baat ko yaad rkha tha or USNe call bhi kiya …but …yaaro meri love story ka end kitne saddness se end hoga mughe y nahi pta tha ham dono me 17 August tak baate hoti rhi …mughe aaj bhi yaad h WO saare uske sath bitaaaye huye pal …..

uski bhut yaad aaati h but dil me y baat hamesha yaad rhegi WO pasta he nahi chala tha. Mai ussse itna pyaar krne laga but …sayad wo mere pyaaar ko samjha he nahi paaayi.. or mughko bina koi reason bataaaye meri life se chali Gyi…how I can forgot. .. aaj bhi mughko uski yaad bhut aati aub sirf uski wajah se mai kabhi khus nahi rh pata ….alltime sadness wid me always
Aaj bhi mai usko hamesha fb PR sms krta hu WO mere messages seen toh krti h but reply. Nahi krti kabhi evyday mai usko sms krta hu but reply nahi krti WO ……kasam se aub kabhi. Kisi ladki ko dil se pyaar nahi kr paaounga …….Pyaar WO nahi jisme pyaar krne ke baad ek dusre ko bhuula jaa sake pyaar toh WO h jisme ek dusre ko kabhi bhulaaya na jaa sake ….Maine first first kisi ladki se true love kiya tha WO bhi mughe chod kr chali ……but aaj bhi WO dil me rahti h. …..
….har insaan ke paas rishto ki kami nahi
hoti……vo rishte khoon ke ho ya dil ke ……dost
bhi bahut mil jaate hai …..school time me or colg
time me…..magr ek esa humsafar jo aakhri saans
tak saath nibhae nahi milta…;kuch waqt hum rishte nibhane or dosti nibhane me
guzaar sakte hai ….magr ek waqt esa zarur aata
hai jab hame ek ese saathi ki zarurat padti hai jo
hame sambhal sake….hamaarahaath thaam kar
chal sake…..jo har sukh dukh me saath reh
sake…..agr rona aae to aansu puch kar ye keh

sake ….me hu na tere saath rota ku h meri life me bhi aisi he ladki aayi meri life ko kuch palo k liye puri life k liye yaadgaar bana gyi jisko mai apni life time kabhi nahi bhula sakta but sayaad meri kismat ko he nahi manjoor tha uska. Sath mere sath Maine toh uske sath bhut sapne ..dekhe the apni princess k sath whole life spend krne ke …life me bhut kam log ko aisa sathi Milta h ki life time usko pyaar kr sake sath nibha sake
………..magr esa saathi bahut kam logo ko
naseeb hote hai ….kismat waalo ko hi milta hai
esa jeewan saathi…..mujhe bhi ek esa hi sacha
dost or saathi mila tha…..jo mere har pal kareeb
thi….mere dil ke paas ….jise har waqt meri hi fikr
rehti thi….jisne kabhi meri aankho me aansu nahi
aane diye……jo mera haath thaam kar kehti thi me
hamesha tere saath hu aakhri saans tak….or usne
waada nibhaya bhi…..aakhri waqt tak vo mere
saath thi….

magr jaate jaate vo mujhe is kadar rula gayi ki aaj
tak aansu nahi thame…..jis din vo mujhse juda hui
thi meri zindagi vahi tham kar reh gai thi …..me
aaj bhi vahi khada hu jaha vo chor kar gayi
thi…..uske intzaar me…..vo nahi aaegi ye jaankar
bhi intzaar kar raha hu…..uska saath esa
tha….uska pyar esa tha ki chah kar bhi me uska
intzaar karna nahi chor sakta……..
hamare pyar ko shayad kisi ki nazar lag gai thi jo
hum juda ho gae ….magr hum milege is jahan me
nahi to us jahan me….magr firse milege zarur
mujhe vishwaas hai …..vishwas hai khud par or
apne pyar par.

Oct,20 2014
Hansimazak Hansimazak Hansimazak Hansimazak
Politics is derived from

The word politics is derived from the word poly,
meaning many,
and the word tics, meaning blood sucking parasites.

Oct,20 2014
Hansimazak Hansimazak Hansimazak Hansimazak
The return of phoolan devi (bb)

On great public deman releasing all over Pakistan!
"The return of phoolan devi",
Directed by Condi Rice,
Scripted in London &
Produced by GHQ.
Character Actress: BB (Benazir Bhutto),
Character Actor:Musharraf
Supporting Actor:Fazal urf Maulana Diesel.
Characterless Actors:Chaudhries & Lagharie,
Dancer: Sherry,
Music: MQM
&
Action sponsored by Al-Qayaida/

Oct,20 2014
Hansimazak Hansimazak Hansimazak Hansimazak

Oct,19 2014
Hansimazak Hansimazak Hansimazak Hansimazak

Oct,18 2014
Hansimazak Hansimazak Hansimazak Hansimazak

Oct,18 2014
Hansimazak Hansimazak Hansimazak Hansimazak

Oct,18 2014
Hansimazak Hansimazak Hansimazak Hansimazak
Ek Neta Ji Hospital Ka Survey Karne Gaye

Ek Neta Ji Hospital Ka Survey Karne Gaye
General Ward Mein Dekha Ek Mariz Muthh Maar Raha Tha.
Neta Ji Ne Hairan Hote Hue Doctor Se Puchha: “Ye Kya Hai?”
Doctor Ne Samjhaya: “Is Ka Virya Bahut Tezi Se Banta Hai Hourly Nikalna Jaruri Hai.”
Neta Ji Agle Ward Mein Pahunche
Udhar Ek Nurse Mariz Ka Lund Choos Rahi Thi
Ye Dekh Ke Neta Fir Hairan Hue Aur Doctor Se Puchha: “Ab Ye Kya Hai?”
Doctor: “Bimari Wahi Hai Par Ye Deluxe Ward Hai..“

Oct,18 2014
Hansimazak Hansimazak Hansimazak Hansimazak
Happy Diwali

It's the "Festival of Lights" today,
It's again the day of Diwali,
It's time to dress up folks,
It's time to adorn the thali.

It's the occasion to throng the temples,
Pray to the Gods and give them offerings,
It's an opportunity to entreat the deities,
To bless us all and rid us of sufferings.

It's the day to light the diyas,
Ignite the rockets and burst crackers,
But it's also the time to be safe,
From the fireworks and all the sparklers.

It's the season to pay a visit,
To all our friends and relations,
To hand them over sweets and presents,
Diwali is our splendid chance.

But while you spend a time of joy,
Don't think it's merriment all the way,
Out there wait many of those,
For whom it's no time to be gay.

Denied of laughter and smiles for days,
They know not what it is to enjoy,
Can you not share something you have,
Can you not bring them a little joy?

When you can make someone else smile
When you can be someone's ally
That's when you can yourself be glad
That's when you'll have a HAPPY DIWALI!

Oct,17 2014
Hansimazak Hansimazak Hansimazak Hansimazak
Deep Jalaayein
Aao jhilmil deep jalaayein,
hum sab hilmil deep jalaayein.

Gaaon, gali aur ghar aangan mein,
jagmag jyoti yun chamke.
kahin rahe na kabhi andhera,
kan-kan saara damke.
aise til til deep jalaayein.

Koi udaas aaj na rahe,
khushiyan sab hi paayein.
ek duje ki madad kare sab,
hum yah parv manaayein.

Hanskar khilkhil deep jalaayein,
aao jhilmil deep jalaayein. 
Oct,17 2014
Hansimazak Hansimazak Hansimazak Hansimazak
Deewali ke is tyohaar ko
Raam prabhu jab van se aaye
Ayodhyavasi khusi manaye
Saji Ayodhya dulhan jaisi
Sabne ghar me diye jalaye.

Tab se mana raha har koi
Diwali ke is tyohar ko
Jeet huwi hai sach ki hardam
Sandesh hai ye sansaar ko

Thaal saje hain deepon se
Hathon me phulon ki mala
Deep se deep jale chaun orr
Door andhera huwa uzzla.

Rang birange balbon se hi
Saja huwa hai har ek aangan
Main nahi kahta kahte sare
Parav hai kitna ye manbhawan.

Amber me bhi chamke tare
Rocket jo aakash me jate
Wo bhi khud ko rok na pate
Dekhne ko wo zami pea ate.

Kitni sunder hai ye dharti
Par pradhushan ne kiya prahar
Deewali me jalte patakhe lakhon
Jo karte watavaran ko bekar.

Pran Karen is diwali par
Nahi chuvenge koi bom
Hamari dharti bachi rahe
Tute na insano ka dum.

Khao khub, khilao khub
Har insan ko gale lagayen
‘deep’ Mubarak deta sabko
Milkar ye tyohar manayen. 
Oct,17 2014
Hansimazak Hansimazak Hansimazak Hansimazak
Deepawali
Maah Kartik Krishan Paksh ki,
raat Amavas jab aati hai.
apane sang mein deep jyotika,
abhinav ek parv laati hai.

Ghar ghar mein hone lagati hai,
saaf safai rang putaai.
bazaaron mein bikane lagate hain,
khel khilaune aur mithaai.

Raat manoram ke aate hi,
jagmag deep jalaaye jaate.
lagata aasmaan ke taare,
saare dharti par aa jaate.

Ramu, Suraj, Geeta, Tara,
sab bachchon ke mann khil jaate.
lekar bam, fuljhadi, pataakhe,
bachche sadakon par aa jaate.

Ardhraatri tak saare bachche,
mil kar aisi dhoom machaate.
swarglok ke sabhi devta,
drishya dekh harshit ho jaate. 
Oct,17 2014
Hansimazak Hansimazak Hansimazak Hansimazak
Diwali khushiyon ka tyohar hai
diwali khusiyo ka tyohar hai.....
har ghar me khusiyo ke deep jagmagte hai...
phir kyu uski aankho me gamo ke aansu timtimate hai....
chalo aaj unke aansu ponch unhe bhi hasate hai...
unki khusiyo ka kaaran ban..
diwali khusiyo se manate hai...

diwali khusiyo ka tyohar hai......

sara sehar roshani se jagmagata hai...
phir kyu uski kotiya me andhera nazar aata hai....
chalo aaj ek deep unki kotiya me jalaye....
unki khusiyo ka kaaran ban
diwali khusiyo se manaye....

diwali khusiyo ka tyohar hai

risto ke mele lage hai...
milne milane ke rele lage hai..
phir kyu vo akele khade hai..
chalo aaj unse bhi mil kar aate hai...
unki khusiyo ka kaaran ban...
diwali khusiyo se manate hai..

diwali khusiyo ka tyohar hai....

fatako ki gunj se zaara zaara gunj raha hai...
phir kyu unki kotiya me sannaata bikhra pada hai...
chalo aaj fatako ka luft unse bhi uth wate hai...
chakri ko unke aagan me fod kate hai..
anar se unke dwar ki ronak badate hai..
unki khusiyo ka kaaran ban....
diwali khusiyo se manate hai....

diwali khusiyo ka tyohar hai

ladoo jalebi rasmalai humne hai bahut khai...
vo dekh kar hume dur se lalchate hai...
chakhne ko tarsate hai aankho se aansu barsate hai...
chalo aaj ladoo ka swad unhe bhi chakhate
rasmalai se unka swad aur bhi badate hai...
unki khusiyo ka kaaran ban....
diwali khusiyo se manate hai...

diwali khusiyo ka tyohar hai

rang virange paridhano se hum sajte hai...
vo fate labade me khud ko dekh tadpte hai...
chalo aaj apne kapdo se unke tan ko dakhte hai...
unki khusiyo ka kaaran ban
diwali khusiyo se manate hai...

diwali khusiyo ka tyohar hai

na koi parichey hai tera mera
mein anath hu na duniya me koi mera ...
phir kyu mere aagan me deep jalata hai...
kyu mere tan ko aapne kapdo se dakhna chahta hai..
kyu mujhse milne ko aata hai..
jab ki tera mera koi nata hai...
phir kyu mujhse apni khusiya baant na chahta hai ...

diwali khusiyo ka tyohar hai

tera mera koi to nata hai...
tujhe ram ne banaya mujhe bhi ram he banata hai...
insaan he insaan ke kaam aata hai...
yahi to insaaniyat ka farz kehlata hai....
diwali khusiyo ka tyohar hai..

khusiya baantne se badti hai ye hume sadiyo se sikhaya jata hai..
khusiyo ka lutf to baant kar he uthaya jata hai...
ram ayodhya loote khusi se khil uthe hirdya bade ho ya chote..
bhai se bhai ka milan hua tabhi to deepo ka chalan hua
bhai chare ka ehsaas diwali ...
bhai chare he hume sikhati diwali .....

diwali khusiyo ka tyohar hai

chalo aaj milkar deep jalate hai ....

khusiya sath milkar manate hai...
ek dusre ki khusi ka kaaran ban ...
diwali khusiyo se manate hai...
yahi tyohar to hai jo hume sath le aata hai....
khusiyo ko sath milkar manane ka mauka de jate hai....
diwali ki apni alag he bahar hai....
diwali khusiyo ka tyohar

ek dusre ki khusiyo ka kaaran ban diwali khusiyo se manate hai.... 
Oct,17 2014
Hansimazak Hansimazak Hansimazak Hansimazak
Deepon Ka Tyohar Diwali
Deepon ka tyohar diwali
khushiyon ka uphaar diwali.

aisi saji-dhaji lagati hai,
jyon phoolon ki daar diwali.

Aai hai "Bhoo" ko pahanaanein
deepon ke le haar diwali.

Liye pataakhe aur mithaai,
humko rahi pukaar diwali.

Kiranon ki bauchhar diwali.
phuljhadi aur anaar diwali. 
Oct,17 2014
Hansimazak Hansimazak Hansimazak Hansimazak
Deepawali ka Aaya Teyohar...
Deepawali ka aaya teyohaar..!
Ghar-Ghar mein hai Roshni ki bahar.
Sab logon ke naye-naye kapdon mein chamak si hai hai..
Dwar-Dwar mein Mithaiyon ki mehak si hai..

Aaj jagmag-jagmag hain Saare Ghar pariwar..
'Saal bhar baad aaya Deepawali ka teyohaar..
Deep jale hai dwar-dwar bade pyare..
Shor sharabe
Aur masti ke fuhaare..

Aaj Deepon ka hai khula prakash..
Susobhit ho raha Dharti aur Aakash..
Deepawali hai teyohar Aman shanti ka..
Samaj ke har varg mein kaanti ka..
Patakhon ke khoob hote hai
Gunjaare...
Aasman me bhi patakhon ke
tarang rupi chamakte hai
Anginat Taare...

Deepawali ke din ki hamko rehti hai mahinon se aas.
Bani rahe hum sab ki aisi hi deepawali manane ki pyas.
Aati rahe Deepawali sab
logon ko Raas..
Hum sab logon mein bana rahe prem aur Bhaichare ka vishwas..
Deepawali ka aaya teyohaar..
saath laya khushiyan hazaar...!!!
Oct,17 2014
Hansimazak Hansimazak Hansimazak Hansimazak
Happiness of 'Diwali'

Joy, Joy, Joy,
We can play with our cousins
We can eat so many sweets
We can fire crackers
We can worship Goddess Lakshmi because
It is Diwali
Happy Diwali

Oct,17 2014
Hansimazak Hansimazak Hansimazak Hansimazak
जान मे जान

दोस्तों मेरा नाम विजय है। मेरी उम्र 22 साल की है और में बहुत अच्छा लगता हूँ। में आज आप सभी को अपनी लाईफ की एक सच्ची कहानी बताने जा रहा हूँ। दोस्तों इसमे मुझसे कोई गलती हुई हो तो प्लीज मुझे माफ़ करे, दोस्तों ये कहानी अभी कुछ समय पुरानी है। दोस्तों किसी कुंवारी चूत का भोग कितना मुश्किल है। ये बात आप मेरी इस कहानी को पढ़ने के बाद शायद समझ जाए।बात उन दिनो की है जब में ट्यूशन पढाता था।

मेरी स्टूडेंट रंजना जो 18 की हो चुकी थी और 32 की ब्रा 26 जीन्स की कसावट उसे जवान होने का अहसास करवा चुकी थी। फिर भी वो बच्ची बने रहने की हसरत मेरे 27 साल के 7 इंच के लंड को हर दिन कसरत करवा देती थी। में उसे दो महीनों से पढ़ा रहा था और पहले ही दिन से उसके लंबे बालों, स्पॉटलेस गालों, लगभग मिल्की फेस मे बड़ी बड़ी काली आँखों का कायल हो चुका था।

ट्यूशन के दौरान मैने उसकी कई फोटो मोबाइल पर खींची जिन्हे देखकर कितनी बार पता नहीं उसके नाम से हस्तमैथुन कर चुका था। मुझे जब भी मौका मिलता डाटने या शाबाशी देने के बहाने उसके पीठ, बूब्स या जहाँ पोसिबल हो हाथ ज़रूर लगाता था। जब मुझे चिड़ाते हुए पेन चबाती बेसूध रहती, तो टॉप मे उसकी कसी चूची देखकर में थूक का घूँट पीता, मेरे पास कोई और रास्ता भी नहीं था।

में उसके घर पर हर शाम को जाता था। एक दिन जब में वहाँ पहुंचा तो उसने मेरे पाँव छुए और बताया की वो क्लास मे फर्स्ट आई है, तभी मैने उसे बाँहो से पकड़ के उठाया, मेरी हथेली उसके कोमल बाँहो को पकड़े हुए थी। मैने वाह वाह कहते थोड़ी हिम्मत करते हुए उसे अपनी और थोड़ा खींचा और उसके माथे को चूम लिया, उसके माथे पर बालो को चूमकर मुझे मादकता की फीलिंग हुई लेकिन खुद को रोक लिया।

अब मैने उसके रिएक्श को देखना चाहा फिर वो थोड़ी सी हड़बड़ा सी गई, तभी मेरी गांड फट गई, मैने अपनी भावना को स्थिर बनाया कहा कि तुमने मेरा सर फक्र से उँचा कर दिया और उसे अपने साथ आने का इशारा कर उसकी माँ की और चल दिया जो किचन मे थी।तभी मैने उसकी माँ के सामने उसकी जमकर उसकी बड़ाई की अब वो शरमा के नीचे देख रही थी।

अब मेरी जान मे जान आई उसकी माँ ने उसे मिठाई के लिए कहा वो फ्रीज़ की और गई तब तक में बिना रुके उसकी बड़ाई करता रहा, फिर मिठाई खाकर हम पढ़ने बैठ गये। इस दौरान मुझे डर था कि कहीं वो मेरे जाने के बाद घर मे चूमने की बात ना बताए सो बाहर निकलते हुए अंत मे मैने उससे कहा ‘रंजना मैने तुम्हे चूमा तो तुम डर गई वो कुछ नहीं बोली, मैने कहा कि तुमने आज मेरा सर उँचा कर दिया इसलिए में खुशी मे रुक नहीं पाया।

अब बड़ाई से वो फिर मुस्कुराई मैने उसके सर पर फिर हाथ फैरा और उसे बोला शाबाश और फिर घर पर निकल गया, फिर अगले दिन सभी चीज़े नॉर्मल रही और मेरा डर दूर हो गया। ये था मेरा पहला कदम अब जब में उसे पढाते वक़्त छूता तो उसके शरीर मे एक अकड़न आती थी, जिससे यह साफ था कि वो मेरी हरकतो को नये ढंग से फील कर रही थी।

तभी कुछ दीनो के बाद मैने उसे रिज़ल्ट के लिए एक मोबाइल फोन गिफ्ट किया, फिर दूसरे दिन पढ़ाई के बाद मैने उसका मोबाइल नंबर माँगा और कभी कभी अच्छे अच्छे मैसेज करता लेकिन कॉल नहीं किया और कभी दोहरे मतलब वेल हल्के सेक्सी मैसेज भी करता दीपावली की शाम को उसका पहला कॉल आया, उसने मुझे विश किया मैने उसे बधाईयां दी और फोन पर ही कहा ‘प्यारी रंजू अगर में वहाँ पर होता तो तुम्हे सर चूम कर हेप्पी दीपावली कहता, लेकिन अब उधर से फोन खामोश हो गया।

मैने फिर फोन पर ही किस किया और कहा गिफ्ट मिल गया ना, उधर से कोई आवाज़ नहीं आई, मुझे डर भी लग रहा था और लंड पूरे उफान पर था। फिर उसने फोन काट दिया मैने रात को दो बजे उसे कॉल किया वो सोई थी पर फोन पर जवाब सही ढंग से ही मिला, मैने कहा कि मेरे विश करने के तरीके से वो नाराज़ तो नहीं तो उसने कहा कि नहीं, फिर मेरी हिम्मत बढ़ी मैने उसके जिस्म की बड़ाई की और कहा कि उसकी तरह ब्यूटिफुल, कमसिन, नाज़ुक, लड़की मैने आज तक नहीं देखी, वो बोल नहीं रही थी लेकिन फोन भी नहीं काटा मुझे लगा कि उसे अच्छा लग रहा है।

फिर मैने आगे बढ़ते हुए उसके शरीर के हर अंग की तारीफ की, पहले फेस, आई, ईयर नाक आदी। फिर कमर फिर जाँघ और फिर मस्त चूची, चूतड़ और कहा कि तुम्हारी पुसी को मैने देखा ही नहीं इसलिए क्या बताऊँ, उसकी साँसे तेज हो रही थी, मैने फोन पर ही चोदने की थीम चालू की, मैने कहा कि हम एक साथ तुम्हारे बेड पर हैं, अब में तुम्हे ज़ोर से चूम रहा हूँ, तो उधर से हल्की मादक आवाज़ आने लगी में समझ गया कि उसने उंगली चूत मे डाल रखी है। उसकी आवाज़ बढ़ती गई फिर यह तेज सांसो के साथ ख़त्म हो गई।

मैने उसे फोन पर कई बार किस किया और गुड नाईट कहा, फिर उसने जवाब मे गुड नाईट ज़रुर कहा था।अगले दिन में जब उसके घर गया तो थोड़ा डरा था पर वो दरवाजे पर ही दिखाई दी, में जैसे ही पहुंचा उसने मुझे दीपावली विश की में मुस्कुराया और अंदर गया, वहाँ उसकी माँ ने मुझे थोड़े पकवान खिलाए फिर मे रंजना के रूम मे चला गया जहाँ पर वो पढ़ती थी। में परदा हटाकर अंदर गया वो बेड पर बैठी हुई थी और पन्ने पलट रही थी। में गया तो वो उठी और अपनी टेबल से बुक लेने लगी।

ओरेंज सूट मे वो कयामत लग रही थी, कूल्हे पूरी तरह बाहर निकले, साइड से बूब्स की नक्काशी दिख रही थी। मेरा लंड सबसबा उठा, दिल की धड़कन तेज हो गई और में उसके पीछे खड़ा हो गया वो मुड़ी नहीं बल्कि बुक ही देख रही थी। मैने उसके पीठ पर हाथ रखा पीछे की पीठ काफ़ी खुली थी और उसकी चोटी उसे ढकी हुए थी। मैने चोटी को हटाया और उसकी पीठ को चूम लिया वो सिहर गयी किसी लड़के के शरीर से संपर्क का यह उसका पहला अहसास था।

फिर मैने उसे मोड़ा और चेहरा अपने सामने किया उसकी नज़रे दरवाजे की और थी शायद उसे अपनी माँ का डर हो।मैने दोनों हाथों से उसके चेहरे पर आते बालो को हटाया, फिर हाथ उसके सर के पीछे ले जाकर उसके चेहरे को अपनी और खींचा तो वो थोड़ा मना करने लगी लेकिन में माना नहीं और अपने होंठ उसके होठों पर चिपका दिए।

उसने हटने की कोशिश की पर में दबाए रखा उसने ज़्यादा ताक़त लगाई, तभी मैने छोड़ दिया वो पीछे हटकर अपना मुँह पोछने लगी। आज पढ़ने मे हम दोनों का ध्यान नहीं था, में बार बार कमरे के बाहर देखता और वो किताब से नज़र नहीं हटा रही थी।वापस जाने का समय हुआ तो में उसे गौर से देखने लगा और देखता रहा वो बार बार नज़र झुका रही थी फिर में उठ गया और उसे उठने को कहा, मैने उसे अपनी और खींचा और कस के जकड़ लिया फिर अपने होठ उसके होठ पर जड़ कर जीभ से उसके अंदर रास्ता निकालने लगा।

जब एक हाथ से मैने उसके चूचीयों को सहलाना शुरू किया तो उसने मुहं का रास्ता खोल दिया, मैने पूरी जीभ उसके मुहं मे डाल दी और रस का आनंद लेने लगा, फिर उसने भी अपनी जीभ हिलानी शुरू की हम दोनों को मज़ा आ रहा था। अब मैनें अपने हाथों को उसके टॉप के अंदर डाल दिया और ब्रा के अंदर सारी उंगलियों को डालकर उसकी चूची को दबाने लगा, उसकी चूची मुलायम और निप्पल सख़्त थे।

मैने जब ज़ोर से दबाया तब उसके सख़्त होने का पता चला, चूची दबाने और स्मूच करने से उसकी आँखे अब बंद हो रही थी, मैने अपनी बाएँ हाथ से उसकी जीन्स के बटन को अनलॉक किया और हाथ उसकी पेंटी के अंदर डालते हुए अंदर चला गया, उसकी चूत के बाल घने थे, उसकी जांघे गीली हो चुकी थी शायद वो पहले ही झड़ गई हो लेकिन मैने अपनी उंगली उसकी चूत के मुहं पर रखकर रगड़नी शुरू की।

एक हाथ से में बूब्स दबा रहा था, मुहं को इतनी ज़ोर से चूमा था की लगभग साँसे रुक गई थी और उंगली को चूत पर रग़ड रहा था।यह त्रिलोकिक सुख अदभुत था, अब उसने अजीब सी आवाज़ निकालनी शुरू की जैसे कराह रही हो पर वो मादकभरी आवाज़ का चरम था, मुझे लगा कि उसकी माँ सुन ना ले सो मैने और ज़ोर से उसके मुँह पर अपने मुँह को टाईट कर दिया और जीभ को मुहं मे डाल दिया फिर पूरी ताक़त से बूब्स दबाते हुए अपनी उंगलियों को तेज़ी से उसकी चूत के थोड़ी अंदर रगड़ने लगा वो ‘आनन्नह आआह्ह्ह की आवाज़ निकालती रही पर में रुका नहीं उंगलियों को और तेज और सख़्त कर रगड़ने लगावो मेरे बालो को पकड़ मुझे खींचने लगी मेरी गर्दन पर नाख़ून खुरचने लगी।

मैने थोड़ी उंगली अंदर डाली, उसकी चूत बिल्कुल गर्म थी। उसे थोड़ा दर्द भी हुआ, वो धीरे धीरे निढाल होने लगी तेज सांसो के साथ मुझ पर झूलने लगी और मैने फील किया कि मेरी उंगलियाँ गीली होने लगी, उसके अंदर से पानी निकल रहा था, में भी अपने को रोक नहीं पाया और फिर मेरे लंड ने भी वीर्य छोड़ दिया, मैने उंगलियों को बाहर निकाल वो मेरे ऊपर ही थी।

मैने उसके माथे को चूमा और फिर उसके सामने अपनी उंगलियों को मुँह मे ले गया, उसके वीर्य को अपनी जीभ से सफ़र किया वो दंग थी, मैने उसे कुर्सी पर बैठाया बालों पर हाथ फैरा और बाहर निकल आया। अब दूसरे दिन फिर से अपने समय पर उसके घर पर पहुंच गया लेकिन आज मुझे वो कुछ बदली हुई सी लग रही थी। वो मुझे देखकर अपने रूम मे उठकर चली आई थी।

तभी अंदर आते ही उसने मुझसे कहा कि क्या सर आपको तो किसी ने अच्छे से चोदना भी नहीं सिखाया और अब वो मेरे बहुत करीब आकर बैठ गई। वो आप मेरे लंड को अपने हाथ से सहलाने लगी। अब ऐसा करने से मेरा लंड दोबारा खड़ा हो गया और पेंट के ऊपर से साफ नज़र आने लगा।रंजना ने जब मेरे लंड को देखा तो फौरन मुझसे पूछा कि सर मुझे एक बात बताइये आपका लंड इतना छोटा क्यों है? उसके इस सवाल से में एकदम चौक गया और बैठ गया। में बिल्कुल सटपटा गया।

में क्या बोलूं, वो तो तुम हाथ से नहीं चूत तभी वो बोली शरमाओ नहीं में आपकी स्टूडेंट हूँ। मुझसे क्या छुपाना, तभी मैने उसको दबी आवाज़ में जवाब दिया कि वो असल में मुझे तुम बहुत पसंद हो और जब भी में तुम्हे देखता हूँ मेरा लंड खड़ा हो जाता है।अब उसने कहा ओफ्फो अगर यह बात थी तो मुझे पहले बताना था ना और यह कह कर वो मुझ पर इस तरह गले लगी कि उसके बूब्स मेरी छाती से चिपक गये, उसकी गांड मेरे दोनों हाथों के ऊपर इस तरह टिकी हुई थी कि मेरा लंड उसकी चूत को छूने को तैयार लग रहा था।

वो अब उसने अपने होठ मेरे होठ पर रखे और मुझे किस करने लगी। उसने मेरे मुहं मे अपनी पूरी जीभ घुसा दी, जिससे मुझ में एक अजीब सी मस्ती छा गयी। थोड़ी देर तक वो ऐसे ही किस करती रही फिर उसने मुझसे पूछा कि मज़ा आ रहा है।

मैने कहा बहुत अब वो जोर जोर से अपनी गांड हिलाने लगी जिससे मेरा मज़ा और दुगना हो जाता दस मिनट ऐसा करते हुए मुझे महसूस हो गया कि अब में झड़ चुका हूँ, उसने मुझे छोड़ दिया और वो मेरे पास ही बैठ गई अब थोड़ी देर ऐसे ही बैठे रहने के बाद उसने मुझसे कहा कि सर आपका जब भी दिल करे जहाँ मर्ज़ी हाथ लगा लो में आपसे कुछ नहीं कहूँगी। तभी मेरी नज़र फिर उस पर पड़ी अब मैने देखा कि उसने ब्लेक रंग का सूट पहना था जिसमें उसके चूतड़ो का उभार साफ ज़ाहिर हो रहा था।

मुझसे रहा नहीं गया और अब मैने बिलकुल पास आकर अपने लंड को उसके चूतड़ो पर चिपका दिया और वो एकदम चोंक गई और बोली अरे सर आप मैने उसे खींच कर अपनी छाती पर बैठाया कि रंजना मेरे और करीब आई।फिर मेरे दीमाग़ में एक शैतानी ख्याल आया मैने अपना हाथ रंजना की चूतड़ों पर रख दिया और सहलाने लगा और उससे कहा कि रंजना क्या तुम मेरी गोद में बैठ सकती हो, तभी उसने मुझे देखा और मुस्करा दी कहा क्यों? तभी मैने कहा कि आज मेरे लंड के साथ में तेरी चूतड़ों की प्यास भी बुझाना चाहता हूँ।

जिसके लिए मेरा लंड कब से तडप रहा है उसने ठीक है कहा और मेरे ऊपर बैठ गई तभी मैने कहा जान अब तुम जरा अपने चूतड़ को थोड़ा अपने हाथों से फैला दो, मेरे हाथ ज़रा बिज़ी रहेंगे उसने मुझे देखा और मुस्कुराई और कहा ठीक है।फिर यह कर मैने अपने दोनों हाथ उसके बूब्स पर रख दीए और उनको सहलाने लगा और थोड़ी थोड़ी देर में अपने लंड से उसकी गांड पर झटके देने लगा।

अब वो भी कभी कभी अपनी गांड को आगे करती तो कभी पीछे, अब उसके जिस्म से इतना चिपका होने की वजह से मुझे उसके बदन की मीठी मीठी खुश्बू आ रही थी, जो मुझे दीवाना बना रही थी और ज़ाहिर है उसको भी मज़ा आ रहा था क्योंकि हर थोड़ी थोड़ी देर में मुझे उसकी सिसकियाँ लेने की आवाज़ सुनाई दे रही थी। हम लोग सेक्सी सेक्सी बाते भी कर रहे थे।फिर वो पूछे जा रही थी कि मुझे उसके बदन की कौन कौन सी चीजे अच्छी लगती हैं और क्यों इन सब बातों और हरकतों ने हम दोनों को बहुत गरम कर दिया था।

तभी उसने मुझसे कहा कि जब तुम मुझे ब्रा में देख रहे हो तो मेरा भी दिल चाह रहा है कि तुम भी अपने पूरे कपड़े उतार दो, फिर मैने भी खुशी खुशी अपनी पेंट और शर्ट उतार कर फेंक दी और उससे चिपक कर लेट गया।

मेरी आज बरसो की प्यास पूरी होने जा रही थी और तभी मैने अपना एक हाथ उसके बूब्स पर रखा और उन्हें दबाने लगा और दूसरा हाथ उसकी चूत पर रखा और सहलाने लगा और लंड को उसके चूतड़ों के दरम्यान ऐसा फँसा लिया कि मेरा लंड ठीक उसकी गांड के सुराख को छू रहा था और मुहं से उसकी गर्दन और कंधों को चाटने लगा। अब यूँ कहिये कि मेरे जिस्म का हर एक हिस्सा रंजना के खूबसूरत बदन को मसल रहा था। अब रंजना भी बहुत मस्त हो गई और बार बार अहह एहह जैसी आवाज़ें निकाल रही थी।

अब उसकी चूत पूरी तरह गीली हो चुकी थी और उसने मुझसे कहा जानू प्लीज़ मेरी चूत को भी ज़रा चाट लो और यह कह कर वो सीधी लेट गई और तभी मैने अपना मुहं उसकी चूत पर रख दिया और उसकी रसीली चूत को बुरी तरह चाटने लगा, जैसे की में सदीयों का प्यासा हूँ।

फिर में अपनी जुबान उसकी गीली चूत के हर एक एक हिस्से पर फैर रहा था, उसकी चूत की महक मुझे अपने मुहं को उसकी चूत पर और दबाने पर मजबूर कर रही थी, अब वो बार बार कह रही थी कि आज पूरा मुहं घुसा दो मेरी चूत में सर और में दीवानो की तरह उसकी चूत चाटे जा रहा था।में आधे घंटे तक यही करता रहा उसके बाद मैने कहा जान प्लीज़ क्या तुम मेरे लंड को चुस लो बेचारा कब से तरस रहा है, तभी उसने कहा ठीक है, अब में उल्टा हो गया और हम लोग 69 पोज़िशन में लेट गये थे।

वो भी मेरे लंड को पागलों की तरह चूसने लगी और में भी उसकी चूत को बिना रुके चाट रहा था और ऐसे ही हम दोनों झड़ गये उसने मेरे लंड का पूरा पानी पी लिया और मैने उ

Oct,17 2014
Hansimazak Hansimazak Hansimazak Hansimazak

homework kar kar ke aa gayi hai mere haathon me moch
wah wah
homework kar kar ke aa gayi hai mere hathon me moch
acp to daya : darwaza todne se pahle kuch to soch....

Hansimazak Hansimazak Hansimazak Hansimazak
Feedback  | Contact us  | Disclaimer