Back
Paranormal Activity Story
Paagal Pret Ka Prakop


मैं एक ज़माने में साड़ी की दूकान पर काम करता था | लेकिन आज निवृत जीवन बिता रहा हूँ | मेरे दो बेटे हैं वही घर का खर्चा संभालते हैं | बचपन से ही मुझे खेल-कूद का बड़ा शौक रहा है | इसी लिए जवानी के दिनों में भी गली के बचों के साथ बच्चा बन कर, कभी क्रिकेट तो कभी गुल्ली डंडा खेलता रहता था | आज में उस खौफनाक घटना की बात बताने जा रहा हूँ जिसके कारण कई बच्चों की अकाल मृत्यु हुई है | चोकड़ी वाला सीवेज हमेशा से ही भुतिया अड्डा रहा है | बदकिस्मती से मोहल्ले का वह एकलौता चौड़ा इलाका था जहाँ बच्चे खेल-कूद कर सकते थे |

कांचा सोमा साड़ी वाला की दूकान पर मेरी नयी नयी नौकरी लगी थी | एक दिन सेठ के बेटे का मुंडन था तो उन्होंने मुझे काम से जल्दी घर भेज दिया | मैं मोहल्ले में चोकड़ी पर जा कर बच्चों के साथ क्रिकेट खेलने लगा | अचानक गेंद खुले सीवेज में जा गिरी | पास खड़ा हुआ नकुल नारियेल के छिलके से गेंद बहार निकाल नें की कोशिश कर रहा था |

तभी उस खुली गटर में तेज़ हलचल मची | नकुल बड़ी तेज़ी से वहां से दूर हट गया | सारे बच्चे मस्ती में थे | एक के बाद एक सभी लड़के उस गटर में बड़े बड़े पत्थर फटकारने लगे | मुझे कुछ ठीक नहीं लग रहा था | मैंने सारे बच्चों को सीवेज से दूर किया | उसके बाद मेरी नज़र सीवेज के भूरे पानी पर पड़ी | तब मुझे ऐसा लगा की पानी के भीतर एक पीली आँखों वाली विकृत आकृति छुपी थी | और वहां से सिर फाड़ देने वाली बदबू आ रही थी | वह एहसास दिल देहला देने वाला था | थोड़ी देर हुई तो हम सब घर चले गए |

उस रात बार बार खिड़की से मेरी नज़र चोकड़ी वाली खुली सीवेज पर जा रही थी | अँधेरी रात में, मैंने देखा उस गटर के पानी में खलबली मचने लगी | एक घुंघराला साया सीवेज के ऊपर नाच रहा था | उस भयानक नज़ारे से मेरे पैर कांपने लगे | कुछ देर बाद मुझे वहां नकुल दिखा | मैंने उसी वक्त ज़ोर से चीख मारी | नकुल नें मेरी और मुड़ा | लेकिन वह काला साया नकुल को सीवेज की और घसीटनें लगा | मैं चीख-पुकार मचाते हुए, सीढियों से उतर कर चौकड़ी की सीवेज की और दौड़ा |



वहां जा कर मैंने देखा | पानी बुरी तरह हिल रहा था | शायद वह प्रेत नकुल को ले गया | मैं वहीँ अँधेरे में दूर बैठ कर रोने बिलकने लगा | कुछ ही देर में पूरा मोहल्ला वहां जमा हो गया | मैंने नकुल के पापा को रोते हुए सारी बात बताई | लेकिन मैं, चौंक गया जब उन्होंने खिड़की की और इशारा कर के बताया की, नकुल तो वह रहा… | उस रात लोगों नें मेरा खूब तमाशा बनाया | मैं चुप-चाप अपने घर में चला गया | तीन दिन बाद पता चला की मोहल्ले का एक लड़का अमित बुखार की वजह से गुज़र गया | मैं उसके घर गया तो मैंने देखा उसके हाथ पर काटे जाने का निशान था | अमित की दादी नें बताया की, खेल खेल में नकुल के साथ जगड़ा हुआ था तब नकुल नें अमित को काट लिया था |

अब मेरे रोंगटे खड़े हो गए | चूँकि मुझे पता था की उस बच्चे की मौत का कारण बुखार नहीं नकुल का काटना ही था | मैं अपना शक दूर करने के लिए उस शाम नकुल के घर गया | मैंने उसे पुछा की उस रात सीवेज पर तुम ही थे ना ? उसने जवाब नहीं दिया और शेतानी हंसी हसने लगा | मैंने उसको पुछा की, मुह खोलो, अपने दांत दिखाओ… (तभी मुझे नकुल के शरीर से वह भयानक बदबू आने लगी |)

मेरे उस सवाल से वह गुस्सा हो गया… फिर वह मुझे पागलों की तरह घूरने लगा… थोड़ी देर मैं भी, उसकी आँखों में देखता रहा | तब मुझे उसकी आँखों में वही पीली चमक नज़र आई जो सीवेज के अंदर उभरी विकृत आकृति में दिखी थी | मेरे रोंगटे खड़े हो गए | मैं नकुल के पास से दूर चला गया | मैंने पूरी बात नकुल के माता-पिता को समजाने की कोशिस की लेकिन, वह सब मुझसे ही जगड़ा करने लगे | इस घटना के बाद मैंने वह मोहल्ला छोड़ दिया | लेकिन उसी अरसे में वहां रहने वाले 3 से 4 बच्चों की रहस्यमई मृत्यु की ख़बरें आई |

मोहल्ले में नकुल का नाम बार बार उस प्रेत के साथ जोड़ा जा रहा था | इस लिए उसके माता-पिता नकुल को ले कर शहर छोड़ गए | बाद में पता चला की नकुल बिना बताये कहीं चला गया है | उसके माता पिता भले ही अपने बच्चे को लापता समझे | लेकिन मेरा दिल कहता है की वह सीवेज वाले प्रेत की बली चढ़ गया होगा |

Uploaded By: Admin     Apr,15 2020
Hansimazak Hansimazak Hansimazak Hansimazak
Zamindars ka Ghost
Classroom Story
Read More Stories
Zamindars ka Ghost
Classroom Story
Chowpati Beach
Bhootiya Metro Station
Man's shadow
Newborn Baby Ghost
More Categories
ArrowLove Story [16]
ArrowSad Story [4]
ArrowTravel story [8]
ArrowParanormal Activity Story [49]
ArrowReal Life Story [9]
ArrowPositive Thinking Story [16]
ArrowHonesty Story [15]
Feedback  | Contact us  | Disclaimer